गणेश भजन लिरिक्स

विनती सुनो गणराजा आज मेरी महफ़िल में आ जाना लिरिक्स

विनती सुनो गणराजा आज,
मेरी महफ़िल में आ जाना,
आज मेरी महफ़िल में आ जाना,
आज मेरी महफ़िल में आ जाना,
विनती सुनों गणराजा आज,
मेरी महफ़िल में आ जाना।।



रिद्धि सिद्धि के तुम हो दाता,

भक्तजनों के भाग्य विधाता,
शंकर के लाल गणराजा,
आज मेरी महफ़िल में आ जाना,
विनती सुनों गणराजा आज,
मेरी महफ़िल में आ जाना।।



माथे मुकुट गले मोतियन माला,

कानन कुण्डल हाथन भाला,
मस्तक सिंदूरी गणराजा,
आज मेरी महफ़िल में आ जाना,
विनती सुनों गणराजा आज,
मेरी महफ़िल में आ जाना।।



देवतो में इनसे बड़ा न कोई दूजा,

सर्वप्रथम होती है जो इनकी पूजा,
बुद्धि के दाता गणराजा,
आज मेरी महफ़िल में आ जाना,
विनती सुनों गणराजा आज,
मेरी महफ़िल में आ जाना।।



विनती सुनो गणराजा आज,

मेरी महफ़िल में आ जाना,
आज मेरी महफ़िल में आ जाना,
आज मेरी महफ़िल में आ जाना,
विनती सुनों गणराजा आज,
मेरी महफ़िल में आ जाना।।

प्रेषक – वीरेंद्र सिंह कुशवाह।
8770536167


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!