माता भजन लिरिक्स

मेरी दाती ओ मैया मुझे थाम ले भजन लिरिक्स

मेरी दाती ओ मैया,
मुझे थाम ले,
कब से बैठा हुआ हूँ,
तेरे सामने,
मेरी दाती ओ मईया,
मुझे थाम ले।।



जग का मारा हुआ,

सबसे हारा हुआ,
भरोसा था वहा भी,
नकारा हुआ,
द्वार कोई ना बाकी,
रहा सामने,
मेरी दाती ओ मईया,
मुझे थाम ले।।



तू भी ना सुने तो,

में जाऊ कहा,
थककर हार कर,
तो में आया यहा,
फिसल कर के खडा हु,
तेरे सामने,
मेरी दाती ओ मईया,
मुझे थाम ले।।



जब भी में गिरा हूं,

संभाला हे माँ,
अपने बेटे से बडकर के,
पाला हे माँ,
हर कतरा आए माँ,
तेरे सामने,
मेरी दाती ओ मईया,
मुझे थाम ले।।



जननी ना होकर के,

भी जननी बनी,
तेरा बेटा बनु ऐसी,
करनी नही,
नजरे केसे उठालू,
तेरे सामने,
मेरी दाती ओ मईया,
मुझे थाम ले।।



माँ कहकर भी मेने,

ना माना तुझे,
फिर भी ना पराया,
हे जाना मुझे,
शर्म से सिर झुका,
है तेरे सामने,
मेरी दाती ओ मईया,
मुझे थाम ले।।



मेरी दाती ओ मैया,

मुझे थाम ले,
कब से बैठा हुआ हूँ,
तेरे सामने,
मेरी दाती ओ मईया,
मुझे थाम ले।।

रचनाकार – श्री सुभाष चन्द्र त्रिवेदी
प्रेषक – आशुतोष
7869697758


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!