मेरे श्याम मेरे इस धरा धाम की लाज ना जाये भजन लिरिक्स

मेरे श्याम मेरे इस धरा धाम की लाज ना जाये भजन लिरिक्स
खाटू श्याम भजन लिरिक्स

मेरे श्याम मेरे इस धरा धाम की,
लाज ना जाये,
दुश्मन कितना भी ज़ोर लगाले,
आंच ना आये,
आंच ना आये,
लाज ना जाये,
मेरें श्याम मेरें इस धरा धाम की,
लाज न जाये।।



रक्षा देश की करते है,

सीमाओं पर जो,
तेरी कृपा का साया भी,
हर पल उन पर हो,
फ़ौजी वतन की आन बान,
और शान बचाये,
दुश्मन कितना भी ज़ोर लगाले,
आंच ना आये।।



रहता देश सुरक्षित जिनकी,

निगरानी में,
कुछ दे जाते बलिदान,
है भरी जवानी में,
उनके परिवारों पर श्याम,
तेरी छाया हो जाये,
दुश्मन कितना भी ज़ोर लगाले,
आंच ना आये।।



तुम योद्धा थे दानी और,

ज्ञानी बड़े महान,
आज देश का वीर,
मांगता है वरदान,
हे वीर तुम्हारा शक्ति पुंज,
इनको मिल जाये,
दुश्मन कितना भी ज़ोर लगाले,
आंच ना आये।।



जिनके होने से हम चैन से,

सो पाते है,
बाबा ये फ़ौजी देश का,
मान बढ़ाते है,
‘चोखानी’ संग टोनी तुझसे,
ये अरज लगाए,
दुश्मन कितना भी ज़ोर लगाले,
आंच ना आये।।



मेरे श्याम मेरे इस धरा धाम की,

लाज ना जाये,
दुश्मन कितना भी ज़ोर लगाले,
आंच ना आये,
आंच ना आये,
लाज ना जाये,
मेरें श्याम मेरें इस धरा धाम की,
लाज न जाये।।

स्वर – सुखजीत सिंह टोनी।


Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!