एक दिन पूछा श्याम से मैंने तू मेरा क्या लगता है भजन लिरिक्स

एक दिन पूछा श्याम से मैंने तू मेरा क्या लगता है भजन लिरिक्स
खाटू श्याम भजन लिरिक्स

एक दिन पूछा श्याम से मैंने,
तू मेरा क्या लगता है,
इतना ध्यान रखेगा कोई,
जितना तू मेरा रखता है,
इक दिन पूछा श्याम से मैंने,
तू मेरा क्या लगता है।।

तर्ज – रो रो कर फरियाद करा हाँ।



दुनिया वालों, ने मुझको जब,

ठोकर मार गिराया था,
कोई नहीं था, साथ में मेरे,
जब तुमने अपनाया था,
अब ना अकेला, हूँ पल पल,
साथ तू मेरे चलता है,
इतना ध्यान रखेगा कोई,
जितना तू मेरा रखता है,
इक दिन पूछा श्याम से मैंने,
तू मेरा क्या लगता है।।



इस नालायक, को सांवरिया,

तुमने इतना प्यार दिया,
चौखट के, काबिल भी नहीं था,
तुमने ये दरबार दिया,
चलते चलते, जब गिर जाता,
तू ही बांह पकड़ता है,
इतना ध्यान रखे ना कोई,
जितना तू मेरा रखता है,
इक दिन पूछा श्याम से मैंने,
तू मेरा क्या लगता है।।



मीरा नरसी, और सुदामा,

भक्त तेरे कहलाते है,
हम अपने, मतलब से बाबा,
तेरे दर पे आते है,
पर देने में, मुझको बाबा,
तू कमी नहीं करता है,
इतना ध्यान रखे ना कोई,
जितना तू मेरा रखता है,
इक दिन पूछा श्याम से मैंने,
तू मेरा क्या लगता है।।



तेरे उपकारों, को मैं बाबा,

कैसे भूल पाऊंगा,
है ये भरोसा, अगले जनम भी,
तेरा दास कहाऊंगा,
‘हरी’ तेरा ये, दर ना छूटे,
मन मेरा ये डरता है,
इतना ध्यान रखे ना कोई,
जितना तू मेरा रखता है,
इक दिन पूछा श्याम से मैंने,
तू मेरा क्या लगता है।।



एक दिन पूछा श्याम से मैंने,

तू मेरा क्या लगता है,
इतना ध्यान रखेगा कोई,
जितना तू मेरा रखता है,
इक दिन पूछा श्याम से मैंने,
तू मेरा क्या लगता है।।

Singer – Hardeep Sharma


Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!